खुशी

दुनीया में हर आदमी ख़ुशी की तलाश में हैं_ और इसे हासिल करने का एक ही रास्ता है अपने विचारों को नियन्त्रित करके  ख़ुशी हासिल करना। ख़ुशी हमारी बाहरी परिस्थितियों पर निर्भर नही करती, यह तो हमारे अंदरुनी परिस्थितियों  पर  निर्भर करती है।

सुख या दुःख का इस बात से कोई संबध नहीं है कि आपके पास कितना है या आप क्या है या आप कहाँ हैं या आप क्या कर रहें हैं। इसका संबध तो इस बात से है कि  आप इस बारे में क्या सोचते हैं , आप क्या सोंचकर खुश होते हैं जिससे आपको ख़ुशी मिलती है।

ख़ुशी का नाम सुनते ही चेहरे पर रौनक आ जाती है।।          हर बात में ख़ुशी है, अंतर केवल हमारे सोचने और समझने का है , यदि हम प्रयास करें तो अपने चारो ओर बिखरी खुशियों को इकठ्ठा कर सकतें हैं।।                                 प्रसन्न चेहरा , अच्छा आचरण और नर्म लहजे में बतचीत ऐसे गुण है की जिन्हें हर कोई पसंद करता है और दूसरो से इसकी आशा रखता है।इसलिये हमेशा खुश रहे ।।।

Advertisements

23 thoughts on “खुशी

  1. your thoughts are always loving ones and hence Imake sure not to miss your posts

    you should be glad to know my book STRAIGHT FROM THE HEART is published and available on Amazon .in till 26/5/17.you can buy the same and do me a favour. http://www.amazon.in /dp/1947137727. is the link. kindly tell it to your friends and followers to help me .

    Liked by 1 person

  2. The picture is nice, but unfortunately I don’t understand what you write because I don’t understand your language and can’t translate it either …
    Best regards, Heidi

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s