आप कौन हैं? क्या हैं?

हम रोज आईने में अपना चेहरा देखते हैं, अपने आप को देखते हैं कि हमारा चेहरा कैसा लग रहा है, पर क्या हम कभी अपने आप को दर्पण में देख के यह पूछते है हम कौन है? क्या ये प्रश्न को कभी भी अपने मन से पूछा है, अपने को पहचानने की कोशिश की है? चेहरे से पहचानना और बात है, और अपने आप को जानना और बात है.!

वास्तव मे जिस समय आप अपने को जान लेते हो, उस समय आप सही अर्थो मे आप हो जाओगे ! यह एक सत्य है कि जब तक आदमी अपने घेरे से बाहर निकल कर एक निष्पक्ष व्यक्ति के रूप मे अपने आपका तटस्थ भाव से निरिक्षण करता है, तो वह अपने आप को पहचान लेते है! तब उसकी अन्तरात्मा मे सोये तमाम गुण अपने आप जग उठते हैँ, तब उसकी सम्पूर्ण आत्मिक शक्तिया जाग उठती हैँ ! जब किसी व्यक्ति की तमाम आत्मिक शक्तियां जाग उठती है, तब वह वास्तव मे महान बन जाता है. ! वह हमेशा प्रगति की और ही आगे बढ़ेगा ! उसकी आशा का जागरण होता है, प्रत्येक इंसान के अंदर चाहे वह स्त्री हो या पुरुष एक और मन रहता है, आप इसे महसूस कर सकते हैं, इसे अवचेतन मन कहते हैं ! यही हमेशा बताता है कि आप सही हैं या गलत इसी मन से खुद को देखिये आप अपने आप को देख पाएंगे कि आप कौन हैं? और क्या हैं??

11 thoughts on “आप कौन हैं? क्या हैं?

  1. Meditating upon Krishna, the Supreme personality of Godhead is the ultimate goal as anything is concerned 🔥🙏

    Like

  2. Bahot khoob! Apni aankhon se khud mein jhankna bahot zaroori hai. Sawal ye hai ki kitne log khud ko dekhne ki himmat rakhte hain aur woh bhi kitni sacchai se.
    I resonate with your thought🙂

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s